top of page
Gradient Background

भारत की खोज | Discovery of India Hindi | Gurugrah




भारत की खोज  | Discovery of India  Hindi | Gurugrah

भारत की खोज –


भारत की खोज कब हुई -

भारत में आने के लिए जो समुद्री रास्तों का खोज वास्कोडिगामा ने किया था तो उसी को कहा जाता हैं कि भारत की खोज वास्कोडिगामा ने किया था वास्कोडिगामा पहली बार भारत में 20 मई 1498 में आया था ।

भारत की खोज कैसे हुई? –

भारत की खोज की रचना 1944 में अप्रैल-सितंबर के बीच अहमदनगर की जेल में जवाहरलाल नेहरू द्वारा की गई थी। इस पुस्‍तक को नेहरू जी ने अंग्रज़ी में लिखा और बाद में इसे हिंदी और अन्‍य बहुत सारे भाषाओं में अनुवाद किया गया है। भारत की खोज पुस्‍तक को क्‍लासिक का दर्जा हासिल है। नेहरू जी ने इसे स्‍वतंत्रता आंदोलन के दौर में 1944 में अहमदनगर के किले में अपने पाँच महीने के कारावास के दिनों में लिखा था। यह 1946 में पुस्‍तक के रूप में प्रकाशित हुई।


इस पुस्‍तक में नेहरू जी ने सिंधु घाटी सभ्‍यता से लेकर भारत की आज़ादी तक विकसित हुई भारत की बहुविध समृद्ध संस्‍कृति, धर्म और जटिल अतीत को वैज्ञानिक दष्टि से विलक्षण भाषा शैली में बयान किया है।

भारत की खोज किसने की थी –

वास्को डी गामा नाम के एक व्यक्ति थे जिन्होंने भारत की खोज की थी। इसके अलावा, वास्को डी गामा 7 जुलाई 1497 को भारत के लिए समुद्री मार्ग की खोज के उद्देश्य से रवाना हुए थे और जात्रा के दो साल बाद अपने 4 नाविकों के साथ 20 मई 1498 को कोझीकोड केरल राज्य के कालीकट पहुंचा। 170 लोगों के उनके मूल दल में से केवल 54 ही उनके साथ लौटे थे। कालीकट में तीन महीने रहने के बाद वास्को डी गामा पुर्तगाल बापस लोट गए।


वास्को डी गामा पुर्तगाल के एक नाविक थे। वह एक पहला विदेशी था जो भारत की भौगोलिक स्थिति के बारे में जान पाए थे। फिर साल 1499 में भारत की खोज की यह खबर पूरे यूरोप में फैल गई थी।

भारत के प्रमुख नाम –

प्राचीनकाल से भारतभूमि के अलग-अलग नाम रहे हैं मसलन जम्बूद्वीप, भारतखण्ड, हिमवर्ष, अजनाभवर्ष, भारतवर्ष, आर्यावर्त, हिन्द, हिन्दुस्तान और इंडिया ।

भारत नाम कैसे पड़ा –

देश का नाम बदलने पर बहस छिड़ी है, संविधान में दर्ज को बदलकर केवल भारत करने की माँग उठ रही है। इस बारे में एक याचिका भी सुप्रीम कोर्ट में दाख़िल हुई जिसपर बुधवार को अदालत ने सुनवाई की।

याचिकाकर्ता की माँग थी कि इंडिया ग्रीक शब्द इंडिका से आया है और इस नाम को हटाया जाना चाहिए। याचिकाकर्ता ने अदालत से अपील की थी कि वो केंद्र सरकार को निर्देश दे कि संविधान के अनुच्छेद-1 में बदलाव कर देश का नाम केवल भारत करे।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बेंच ने याचिका को ख़ारिज करते हुए इस मामले में दख़ल देने से इनकार कर दिया। अदालत ने कहा कि संविधान में पहले से ही भारत का ज़िक्र है। संविधान में लिखा है।

भारत खोज ने का जात्रा केसा था? –

जहां तक सवाल भारत का है, तो इसके एक ओर भारत की ऐसी स्रिंगखोलै है जिसे पर करना उस समय में असम्वब ही था। भारत की दूसरी ओर तीन ओर से भारत को समुद्र ने घेर रखा था। ऐसे में यूरोपियों के भारत पहुंचने के तीन ही रास्ते है।

1. पहले रूस को पार कर चीन के रास्ते बर्मा पहुंचकर भारत आना जोकि अनुमान से बहुत ज्यादा लम्बा और जोखिम भरा था।

2. दूसरा रास्ता अरब और ईरान को पार करके भारत पहुंचना था। लेकिन इस रास्ते का इस्तेमाल अरब के लोग करते थे और उन्होंने उस रास्ते का इस्तेमाल किसी को नहीं करने दिया।

3. तीसरा रास्ता समुद्र का था, जिसमे चुनौती देने वाले सिर्फ समुद्र ही था।

भारत का व्यापार –

आपको बता दे की पहले भारत में मसाले काफी मात्रा में उगाया जाता था। इसके अलावा भारत में बहुमूल्य रत्न भी बड़ी मात्रा में उपलब्ध थे और इन वस्तुओं का विदेशों में व्यापार होता था।भारत का माल व्यापार के लिए यूरोप के बाजारों में ले जाया जाता था और दक्षिण पूर्व एशिया के कई देशों जैसे कि इंडोनेशिया, जावा, सुमात्रा, बोर्निओ, मलेशिया इन द्वीपों पर भी भारत की माल ले जाया जाता था ।

देखा जाए तो भारत का व्यापार प्राचीन समय में यूरोप और दक्षिण पूर्व एशिया के साथ हुआ करता था। इसी तरह से अरब व्यापारी भारत से सामान खरीद कर दूसरे जगह (यूरोप) पर काफी महंगे दामों में बेचते थे इससे उन लोगों को बड़ा मुनाफा मिल जाता था। इस वजह से, पूरे एशिया के व्यापार पर अरब का कंट्रोल और नियंत्रण चला करता था।

दुनिया के शीर्ष 13 सबसे पुराने देश –

1. फ्रांस : 486 ई

2.सैन मैरिनो: 301 ई

3.पुर्तगाल: 900 साल पुराना

4.ग्रीस: 4500 ईसा पूर्व

5.इथियोपिया : 5 मिलियन वर्ष

6.जापान: 15 मिलियन वर्ष पुराना

7.चीन: 2100 ईसा पूर्व

8.आर्मेनिया: 6500 ईसा पूर्व

9.ईरान: 620 ईसा पूर्व

10मिस्र: 6000 ईसा पूर्व

11.भारत: 2500 ईसा पूर्व

12.वियतनाम: 4000 साल पुराना

13.उत्तर कोरिया: 7वीं शताब्दी ई.पू

Gurugrah.in

 

By Chanchal Sailani | December 20, 2022, | Editor at Gurugrah_Blogs.

 


Kommentare


Related Posts :

bottom of page